Listen to hindi Christian worship songs online

chorotia_guitar


A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y |Listen Songs onlineDownload Songs


Listen to hindi Christian worship songs online

मसीही गीत-भजन ऑनलाइन

Select any song the below playlist to play the song instantly:

 

Religion v/s Spirituality – The truth of False Religion

God has blessed and encouraged me thoroughly by the ‘Word of the Week’ by Zac Poonen. I am publishing it as is here with due credit to him. Read and be blessed. WORD FOR THE WEEK 21 February 2010
Christian Fellowship Church, Bangalore, India www.cfcindia.com.

The Essence of Babylon – From Man, Through Man And To Man

Zac Poonen

In Genesis 11:4 we read that the people of the world decided to build a tower. They said to each other, “Come, let us build for ourselves a city and a tower whose top would reach to heaven.” They wanted their tower to be the gate of God (Babel). Human effort to reach God is a major constituent of false religion. False religion is always a religion of works – and not one of faith and dependence on God. Continue Reading

The perfect mistake

I was amazed why God did not allow me to change the ‘Word of the week’ for two weeks. I intended to change, yet, when I asked for it, He did not provide His Word. Finally I chose to keep this page as is – thinking probably God has to make that message available to someone who really needed it.

Finally, He touched my heart with one very inspiring story from Email Ministry – ‘The perfect mistake’. I have been thoroughly blessed, so publishing it as is, with all due credit to the Email Ministry team.

<>< <>< <>< <>< <>< <>< <>< <>< <>< Continue Reading

How To Read The Bible For Better Understanding

I have written few books and I am sure I am the best person who can explain every single word and sentence that I have written in my books. Bible is written by the Holy Spirit of God through human hands who were inspired to write what God wanted, who can be a better teacher than God himself to teach us what he wrote and what he meant.

All Scripture is God-breathed and is useful for teaching, rebuking, correcting and training in righteousness, so that the servant of God[a] may be thoroughly equipped for every good work.

– 2 Timothy 3:16-17

The Bible is not a mere book (or collection of spiritual books) but its a living word – the Word of God, its own best teacher. The Bible however is not arranged like an encyclopedia. You cannot go to chapter 1 and read everything about God and go to chapter 2 to read everything about Jesus, etc. Remember when reading the Bible the verses and chapter breaks are placed in the scriptures by man. It is better to read by paragraph, these too are man-made but they do conform better to the original language than verses. Some ground rules need to be set up first: Continue Reading

Satyamev Jayate

सत्यमेव जयते

 सत्यमेव जयते – अर्थात सत्य की सदा जीत होती है। हम इस बात पर विश्वास करते हैं और इसी कारण बहुत से त्योंहार मनाते हैं। कुछ त्योंहारों में हम परस्पर असत्य पर सत्य की विजय को प्रतिबिंबित करते हैं और इसीलिये उत्सव में शामिल होते हैं। हम आनंद मनाते हैं और उससे जुड़े कई तरह के रीतिरिवाज भी पूरे करते हैं। सच तो यह है कि हम चाहते तो हैं कि सत्य की ही अंत में जीत होनी चाहिये, परंतु सत्य से ही अनजान हैं।

मेरा मानना है कि सामान्यतया मनुष्य की रुचि सत्य में ही होती है। झूठ को कोई सुनना पसंद नहीं करता। हाँ, यह बात और है कि यदाकदा स्वार्थवश हम झूठ बोल देते हैं। उदाहरणतया, जो लोग ज्योतिषियों के पास जाते हैं क्या वे अपने भविष्य का सत्य जानना नहीं चाहते हैं। कौन उनसे झूठ सुनने के लिये जाता है? अपने बच्चे से कोई झूठ सुनना पसंद नहीं करता; गलती भी हो जाये और बच्चा सच बोले तो संभव है कि मार से बच जाये परंतु झूठ बोले और पता चल जाये कि झूठ है तो जो हाथ में आये उससे पिटाई करने में माँ-बाप पीछे नहीं हटते। पुलिस वाले सच उगलवाने के लिये क्या क्या नहीं करते? यदि आपको पता चल जाये की सामने वाले झूठ बोल रहा है तो क्या आपकी रूचि उसकी बात में रहती है? कई लोग कहते हैं कि किसी की भलाई के लिये बोला गया झूठ ‘झूठ’ नहीं होता। यह सुनने में तो अच्छा है लेकिन अपने आप में असत्य बात है। कुल मिलाकर हम झूठ पसंद नहीं करते, परंतु जो शाश्वत जीवन का सत्य है उससे ही अनजान बैठे रहते हैं, उसे खोजते ही नहीं, और मिथ्या संसार में मन लगाये रहते हैं। Continue Reading

Apka mulya chukaya gaya hai
आपका मूल्य चुकाया गया है

“क्योंकि पाप का मूल्य तो बस मृत्यु ही है जबकि हमारे प्रभु यीशु मसीह में अनंत जीवन परमेश्वर का वरदान है।”

पुरातन ग्रंथ और आध्यात्मिक धर्मशास्त्र कहते हैं कि पूरी मानव जाति पाप के अंधकार में फंस कर अपने सृष्टिकर्ता के सान्निध्य से दूर हो गई है। हर प्रकार के पाप की क्षमा के लिये शुद्ध तथा निष्कलंक रक्त का बहना ज़रूरी है, क्योंकि लहू में जीवन होता है। कोई पशु पक्षी आदि का लहू नहीं परंतु परम पवित्र परमात्मा (सृष्टिकर्ता परमेश्वर) के लहू बहाने से ही सर्व मानवजाति का पाप क्षमा हो सकता है। Continue Reading

Sabka Malik Ek Hai

सबका मालिक एक है

क्या सच में सब का मालिक एक है?

अगर ऐसा है तो फिर समाज में इतना बैरभाव क्यों? क्या हम सच में मानते हैं कि सबका मालिक एक है या बस कहने के लिये कह देते हैं? दुनिया में बहुत से धर्म हैं। उन सबके रीतिरिवाज अलग अलग हैं और वे सभी इस बात को तूल देते हैं कि उनका ही रास्ता ठीक है। तो क्या बाकी रास्ते गलत हैं? क्या आप भी ऐसा ही सोचते हैं? “हमारे यहाँ तो ऐसा होता है” या “हम तो यह मानते हैं”, यह बात हर जगह धार्मिक विषय पर हो रही बातचीत में सुनाई देती रहती है। क्या ईश्वर भी ऐसे ही बँटा हुआ है? Continue Reading