Bible Stories,  KIDS4KIDS-Kids Corner

Bible Story – Jesus goes home

Jesus defeated death and rose again from the dead. He lived among his disciples for 40 days after his resurrection and then was taken up in the clouds while they were all watching. Jesus went to home from where he came to save the mankind. Watch this story of Jesus’ ascension and share it with others.

If you like this video, subscribe our channel and spread the good news!!! Yay! Story teller – Yeshanshi | Background Music Support – Pranjal (Neele aasmaa’n ke paar jayenge)

बाल कहानी – यीशु का स्वर्गारोहण

यीशु जी उठे थे और मरियम और अनेक चेलों को दिखाई दिये। “मैंने अपना काम पूरा कर दिया है जो कि परमेश्वर ने मुझे दिया था, और अब मुझे जाना चाहिये। लेकिन मैं चाहता हूँ कि तुम सब जगह जाओ और मेरे बारे में सबको बताओ।” यीशु ने अपने मित्रों अर्थात चेलों से कहा।

“सारी दुनिया को बता दो कि ईश्वर उन्हें उनके पापों से बचाना चाहते हैं, परमेश्वर उनसे प्रेम करते हैं। उनको वो सब बता दो जो मैंने तुम्हें बताया है और उनको अपना दोस्त बना लो। वे ईश्वर की संतान बन सकते हैं।” यीशु ने फिर से बोला और थोड़ा रुक कर चेलों को बताने लगे।

“मैं तुम्हारी मदद के लिये एक सहायक भेजूँगा, लेकिन तुम सब यहीं ठहरे रहना। जब वो आ जाये तो उसकी मदद से पूरी दुनिया को मेरे प्यार के बारे में बता देना। मैं सबका दोस्त हूँ।”

अब यीशु का अपने घर अपने पिता के पास जाने का समय हो चला था। चेले उनकी बात सुनकर पूछने लगे, “तो क्या अब आप राजा बन जायेंगे? फिर आप वापस कब आयेंगे?”

“परमेश्वर बतायेंगे, उनको ही सब मालूम है।” यीशु ने कहा जब वो अपने मित्रों के साथ जैतून के पहाड़ पर थे। तभी एक बड़ा बादल वहाँ आ गया और यीशु उन सबकी नज़रों से ओझल हो गये। वे फिर यीशु को देख नहीं पाये।

लेकिन दो लोग बहुत चमकदार कपड़े पहने उनको दिखाई दिये। वो स्वर्गदूत थे।

“तुम बादलों की तरफ क्या देख रहे हो? यीशु तो अपने पिता के पास उनके घर में चले गये हैं। लेकिन वो फिर से आयेंगे – जब उनका समय आयेगा।” स्वर्गदूतों ने बोला लेकिन उनकी बात सुनकर चेले और भी परेशान हो गये। उनको समझ नहीं आ रहा था, “उन्होंने तो कहा था कि वो सर्वदा हमारे साथ रहेंगे, फिर वो चले क्यों गये? अब हमारा क्या होगा!!!”

वो सब आपस में बात करते और सोचते रहे – यीशु के आने का वादा कब पूरा होगा। हमें उनका इंतज़ार करना चाहिये।